Home COVID-19 बिहारः आमजन की सुरक्षा हेतु घर से निकलने पर मास्क पहनना होगा...

बिहारः आमजन की सुरक्षा हेतु घर से निकलने पर मास्क पहनना होगा अनिवार्य

घर से बाहर निकलते समय मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से किया जाए अन्यथा इस आदेश की अवहेलना के आलोक में संबंधित व्यक्ति दंड के भागी होंगे

पटना। बिहार सरकार ने भी उत्तर प्रदेश सरकार की तर्ज पर कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए अब घर से निकलते हुये मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार द्वारा जारी एक आदेश में बताया गया है कि सरकार की ओर से कोविड-19 की रोकथाम एवं उपचार के लिए अथक कार्य किये जा रहे हैं। दरअसल रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामले सामने आ रहे हैं, इसलिए मास्क अनिवार्य किया गया है। आदेश में यह साफ कहा गया कि प्रायः यह देखने में आ रहा है कि कई लोग इस संक्रमण काल में भी बिना मास्क लगाए घरों से बाहर निकलते हैं। इस स्थिति में न केवल वे स्वयं संक्रमित हो सकते हैं बल्कि अपने आसपास के लोगों में भी संक्रमण फैला सकते हैं।

संजय कुमार ने आदेश में कहा, ‘‘उक्त परिप्रेक्ष्य में महामारी रोग अधिनियम-1897 के तहत तथा 2020 के बिहार महामारी रोग कोविड-19 अधिनियम में प्रदत्त शक्ति के तहत यह आदेश दिया जाता है कि घर से बाहर निकलते समय मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से किया जाए अन्यथा इस आदेश की अवहेलना के आलोक में संबंधित व्यक्ति दंड के भागी होंगे। आदेश में कहा गया है कि इसलिए सभी आमजनों, फल बेचने वाले, सब्जी बेचने वाले, सफाई कर्मी, किराना दुकानदार, सुधा डेयरी, दवा के दुकानदार एवं वहां के कर्मी तथा साथ ही उन दुकानों में आवश्यक सामग्रियों को लेने जाने वाले ग्राहक को भी मास्क लगाना अनिवार्य है। इस क्रम में यह भी विदित हो कि एन-95 मास्क के अतिरिक्त सामान्य दोहरे कपड़े से घर में सिले हुए, जीविका समूहों एवं अन्य समरूप समूहों द्वारा तैयार किए गए मास्क भी संक्रमण को रोकने के लिए काफी कारगर हैं। यहां यह भी स्पष्ट किया जाता है कि एन-95 मास्क कोविड-19 की जांच एवं चिकित्सा में संलग्न चिकित्सा पदाधिकारी एवं कर्मियों के लिए आवश्यक है। शेष पदाधिकारी, कर्मचारी एवं आम नागरिकों के लिए तीन परत वाले मास्क अथवा कपड़े के दो परत वाले मास्क काफी उपयोगी हैं। कपड़े से बने मास्क की सफाई कर उसे पुनः उपयोग में लाया जा सकता है। आदेश में कहा गया है कि सभी जिला पदाधिकारी, सभी वरीय आरक्षी अधीक्षक, आरक्षी अधीक्षक एवं समी सिविल सर्जन अपने जिले में इस आदेश का अनुपालन कराना सुनिश्चित करेंगे। आपको बता दे कि बिहार में कोरोना संक्रमित का पहला मामला लोकडाउन अवधि प्रारंभ होने से एक दिन पूर्व 21 मार्च को सामने आया था और अब तक 150 कोविड-19 मरीज प्रदेश में सामने आ चुके हैं तथा दो लोगों की मौत हो चुकी है, ऐसे में आमजन की सुरक्षा को देखते हुये बिहार सरकार की यह पहल बेहद सराहनीय है।

Leave a Reply

Most Popular

क्या पेट सिर्फ गरीब मजदूरों के पास ही होता है?? क्या गरीब बेरोजगार छात्र बिना पेट के पैदा हुए है??

🤔🤔🤔🤔ऐसा लग रहा है कि देश में सिर्फ मजदूर ही रहते हैं….बाकी क्या काजू किसमिस बघार रहे हैं ?🙁

The BROTHER : A “GIFT” to the Heart & a “FRIEND” to the Spirit

“Brothers are like streetlights along the road, they don’t make distance any shorter but they light up the path and make...

प्रतापगढ़ में कृषक कुर्मी परिवार पर हुए बर्बरता पूर्ण कृत्य से भड़का कुर्मी समाज

26 मई 2020 को प्रातः 11:00 बजे सभी कुर्मी समाज जिलाधिकारी कार्यालय पर उपस्थित होकर महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश के नाम...

कविता: डग- मग -पग

दीप जला ले, थाल बजवा ले, पैदल भी अब चलवा ले।निकल पड़े हम, ले सर गठरी, ‘डग-मग-पग’ पर ले छाले।।

Recent Comments

Click to Hide Advanced Floating Content

COVID-19 INDIA Confirmed:139,049 Death: 4,024 More_Data

COVID-19

Live Data