सीबीआई की वकील कोहली ने आरोपी की याचिका का विरोध करते हुए इन तथ्यो पर दलील दी कि यदि उसे रिहा किया गया तो जांच को नुकसान पहुंचेगा क्योंकि वह गवाहों को प्रभावित कर सकता है।

जम्मू। जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय ने बैंक धोखाधड़ी के एक मामले में राज्य के पूर्व मंत्री अब्दुल रहीम राथेर के बेटे हिलाल राथेर की जमानत याचिका आज खारिज कर दी। आरोपी ने न्यायमूर्ति के समक्ष याचिका देकर इस आधार पर अंतरिम जमानत मांगी थी कि सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर देश भर की जेलों में भीड़-भाड़ कम करने को कहा है, इसके अतिरिक्त राथेर ने यह दावा भी किया कि वह कई बीमारियों से ग्रसित है।

आपको बता दे कि हिलाल जम्मू कश्मीर के पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल रहीम राथेर के पुत्र हैं। वहीं देश की बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मोनिका कोहली ने अदालत में यह दलील दी कि जेल प्रशासन से ऐसी कोई मेडिकल रिपोर्ट नहीं मिली है जिससे यह सिद्ध हो सके कि आरोपी को कोई स्वास्थ्य से सम्बन्धी समस्या हो।

सीबीआई की वकील कोहली ने आरोपी की याचिका का विरोध करते हुए इन तथ्यो पर दलील दी कि यदि उसे रिहा किया गया तो जांच को नुकसान पहुंचेगा क्योंकि वह गवाहों को प्रभावित कर सकता है। इस पर न्यायमूर्ति गुप्ता ने आरोपी के वकील से कहा कि अंतरिम जमानत याचिका खारिज की जाती है। आपको बता दे कि राथेर को जम्मू कश्मीर में भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) ने 177 करोड़ रुपये के कथित बैंक धोखाधड़ी मामले के सिलसिले में माह जनवरी में गिरफ्तार किया था। जिसके बाद यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया था।