इंडसइंड बैंक का बीते वित्त वर्ष 2019-20 की चोथी तिमाही का एकल शुद्ध लाभ 16 प्रतिशत घटकर 301.74 करोड़ रुपये रह गया। फंसे कर्ज के लिए ऊंचा प्रावधान किए जाने की वजह से बैंक के मुनाफे में कमी आई है। आपको बता दे कि इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में बैंक द्वारा 360.10 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था।
आय में भी इजाफा

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा है कि तिमाही के दौरान हालांकि, उसकी एकल कुल आय बढ़कर 9,158.57 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की चैथी तिमाही में 7,550.43 करोड़ रुपये रही थी।

चोथी तिमाही (जनवरी से मार्च 2020) में बैंक का डूबे कर्ज और अन्य आकस्मिक खर्चों के लिए प्रावधान बढ़कर 2,440.32 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 1,560.69 करोड़ रुपये था।

NPM में भी हुई बढ़ोतरी

समीक्षाधीन तिमाही में बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां एनपीएम बढ़कर कुल ऋण का 2.45 प्रतिशत हो गईं, जो एक साल पहले इसी तिमाही में 2.10 प्रतिशत थीं। हालांकि, तिमाही के दौरान बैंक का शुद्ध एनपीए घटकर 0.91 प्रतिशत रहा, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की चैथी तिमाही में 1.21 प्रतिशत पर था। इंडसइंड बैंक ने कहा कि 31 दिसंबर, 2019 को समाप्त तिमाही में उसने दो इकाइयों पर बकाया 960.89 करोड़ रुपये की पहचान ‘धोखाधड़ी’ के रूप में की। रिजर्व बैंक के नियमों के तहत उसने इसके लिए जरूरी प्रावधान किए।