Home करियर ऑनलाइन पढ़ाने में शिक्षकों को कक्षाओं से ज्यादा मेहनत करनी पढ़ती हैः...

ऑनलाइन पढ़ाने में शिक्षकों को कक्षाओं से ज्यादा मेहनत करनी पढ़ती हैः HC

दिल्ली हाई कोर्ट ने लॉकडाउन के दौरान निजी स्कूलों को शिक्षण शुल्क नहीं लेने का निर्देश देने से इनकार करते हुए कहा कि ऑनलाइन पढ़ाना कोई बच्चों का खेल नहीं है और इसके लिए शिक्षकों को कक्षाओं से ज्यादा मेहनत करनी पढ़ती है। अदालत ने कहा कि ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की व्यवस्था से जुड़े सभी खर्चों समेत इसके लिए बड़ा ढांचागत बंदोबस्त करना पड़ता है, जिस पर शिक्षा प्रदान की जा सके। कोर्ट ने कहा कि इन सब व्यवस्थाओं के बाद यह कहना कि स्कूलों को शिक्षण शुल्क लेने की अनुमति नहीं होनी चाहिए, बेतुकी बात होगी।

याचिका पर विचार नहीं

चीफ जस्टिस डी एन पटेल और न्यायमूर्ति हरिशंकर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई करते हुए उस याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया जिसमें निजी स्कूलों को कोविड-19 से उपजे हालात को देखते हुए छात्रों से शिक्षण शुल्क नहीं लेने का निर्देश देने की मांग की गई थी। एक वकील ने याचिका देकर दिल्ली सरकार के 17 अप्रैल के आदेश को रद्द करने की मांग की थी और कहा था कि अगर शिक्षण शुल्क वसूला भी जाता है तो वह कम-से-कम स्कूल फिर से खुलने के एक उचित समय बाद ही लिया जाए।

प्राइवेट स्कूलों की पहल स्वागत योग्यः हाई कोर्ट

अदालत ने कहा कि दिल्ली सरकार के आदेश में कहा गया है कि कई निजी स्कूलों द्वारा ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने के प्रयास स्वागत योग्य कदम हैं जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि 2020-21 के शिक्षण सत्र के दौरान छात्रों को पाठ्यक्रम संबंधी नुकसान नहीं हो। पीठ ने कहा, हम पूरे मन से इस भावना का समर्थन करते हैं। स्कूलों और शिक्षकों द्वारा शिक्षा प्रदान करने में तथा ऑनलाइन प्लैटफॉर्मों के माध्यम से कक्षाएं लगाने में मेहनत से किए गए प्रयासों का न्यायिक संज्ञान लिया जा सकता है। नियमित कक्षाओं में आमने-सामने छात्रों को पढ़ाने की ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने में शिक्षकों के प्रयासों से दूर-दूर तक तुलना नहीं की जा सकती।

Leave a Reply

Most Popular

SP विक्रान्तवीर के दिशानिर्देश पर उन्नाव पुलिस ने तिहरे हत्याकांड का किया खुलासा

दो आरोपी गिरफ्तार जबकि तीसरे आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास जारी रिपोर्ट बाबू सिंह एडवोकेट

समाज को आगे बढ़ाने में प्रयासरत है शिल्पी पटेल

भारतीय संस्कृति सबसे पुरानी संस्कृति रही है, हमारे प्राचीन काल से नारी का स्थान सम्माननीय रहा है और कहा गया है...

कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता

कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिताकभी धरती तो कभी आसमान है पिताजन्म दिया है अगर माँ ने जानेगा जिससे जग...

चैन से बैठे देख रहे सब मन्दिर में भगवान हैं

पाँवों में छाले इनके हैं सड़कें लहूलुहान हैं।चैन से बैठे देख रहे सब मन्दिर में भगवान हैं।।
Click to Hide Advanced Floating Content

COVID-19 INDIA Confirmed:173,491 Death: 4,980 More_Data

COVID-19

Live Data