Home COVID-19 कोरोना वायरस व लॉकडाउन की वजह से सोमवार को बैसाखी का त्योहार...

कोरोना वायरस व लॉकडाउन की वजह से सोमवार को बैसाखी का त्योहार सादगी से मनाया जाएगा।सिख समाज घरों पर ही अरदास करेगा

कोरोना वायरस व लॉकडाउन की वजह से सोमवार को बैसाखी का त्योहार सादगी से मनाया जाएगा। सिख समाज घरों में ही नितनेम का पाठ करेगा। लाइव टेलीकास्ट के माध्यम से अमृतसर स्वर्ण मंदिर से कीर्तन को देखा जाएगा। शाम को घरों के बाहर दीपमाला कर बैसाखी मनाई जाएगी। अकाल तख्त ने बैसाखी सादगी से मनाने का फरमान जारी किया है। सिख समाज घरों पर ही अरदास करेगा। इतिहास में वैशाखी धार्मिक दृष्टि के अलावा ऐतिहासिक रूप से भी बैसाखी का त्योहार महत्वपूर्ण है। बात है सन् 1699 की, बैसाखी के अवसर पर गुरू गोविंद सिंह जी ने सिख समुदाय को आमंत्रित किया। गुरू का अदेश मिलते ही सभी सिख समुदाय आनंदपुर साहिब के उस बड़े से मैदान में पहुंच गये जहां पर गोविंद सिंह जी ने सभा का आयोजन किया था।गोविंद सिंह जी ने एक नंगी तलवार लेकर सिख समुदाय को संबोधित किया कि मुझे सिर चाहिए। गुरू की बात सुनते ही सभा में सन्नाटा छा गया। तभी लाहौर निवासी दयाराम खड़ा हुआ और हाथ जोड़कर बोला, “मेरा सिर हाजिर है”। गोविंद सिंह दयाराम को तंबू में ले गये और कुछ ही देर में तंबू से खून की धारा बहती नजर आयी।इसके बाद गोविंद सिंह फिर से मंच पर आये पुनः एक और सिर की मांग की। इस बार सहारनपुर भाई धर्मदास आगे आये। इन्हें भी तंबू में ले जाया गया और फिर तंबू से खून की धारा बह निकली। इसके बाद क्रमशः जगन्नाथ पुरी निवासी हिम्मत राय, द्वारका निवासी मोहकम चंद और पांचवी बार बीदर निवासी साहिब चंद को तंबू में ले जाया गया और हर बार तंबू से खून की धारा बह निकली।साहिब चंद को तंबू में ले जाने के बाद जब छठी बार गोविंद सिंह जी तंबू से बाहर निकले तो वह सभी लोग उनके साथ थे जिन्हें गुरू जी अपने साथ तंबू में ले गये थे। पांचों व्यक्ति ने कहा कि गुरू जी हमारी परीक्षा ले रहे थे, हर बार बकरे की बलि दी गयी।इसके बाद गुरुजी ने सिख समुदाय को संबोधित करके कहा कि ये मेरे ‘पंच प्यारे’ हैं। इनकी निष्ठा से एक नए संप्रदाय का जन्म हुआ है जो खालसा कहलाएगा। खालसा की स्थापना करने के बाद गुरू गोविंद सिंह जी ने बड़ा सा कड़ाह मंगवाया। इसमे स्वच्छ जल भरा गया। गोविंद सिंह जी की पत्नी माता सुंदरी ने इसमे बताशे डाले। ‘पंच प्यारों’ ने कड़ाह में दूध डाला और गुरुजी ने गुरुवाणी का पाठ करते हुए उसमे खंडा चलाया।इसके बाद गुरुजी ने कड़ाहे से शरबत निकालकर पांचो शिष्यों को अमृत रूप में दिया और कहा, “तुम सब आज से ‘सिंह’ कहलाओगे और अपने केश तथा दाढी बढाओगे। गुरू जी ने कहा कि केशों को संवारने के लिए तुम्हे एक कंघा रखना होगा। आत्मरक्षा के लिए एक कृपाण लेनी होगी।सैनिको की तरह तुम्हे कच्छा धारण करना पड़ेगा और अपनी पहचान के लिए हाथों में कड़ा धारण करना होगा। इसके बाद गुरू जी ने सख्त हिदायत दी कि कभी किसी निर्बल व्यक्ति पर हाथ मत उठाना।इसके बाद से सभी सिख खालसा पंथ के प्रतीक के रूप में केश, कंघा, कृपाण, कच्छा और कड़ा ये पांचों चिन्ह धारण करने लगे। नाम के साथ ‘सिंह’ शब्द का प्रयोग किया जाने लगा। इस घटना के बाद से ही गुरू गोविंद राय गोविंद सिंह कहलाने लगे।

Leave a Reply

Most Popular

‘‘खुला लॉकडाउन’’ (लॉकडाउन कें बाद का प्रभाव)

खुला लॉकडाउन खुशियाँ आई, बंद कमरे से मुक्तियाँ पाई।अर्से बाद शहर नें ली अंगड़ाई, मोटर गाड़ी दौङ लगाई।।

SP विक्रान्तवीर के दिशानिर्देश पर उन्नाव पुलिस ने तिहरे हत्याकांड का किया खुलासा

दो आरोपी गिरफ्तार जबकि तीसरे आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास जारी रिपोर्ट बाबू सिंह एडवोकेट

समाज को आगे बढ़ाने में प्रयासरत है शिल्पी पटेल

भारतीय संस्कृति सबसे पुरानी संस्कृति रही है, हमारे प्राचीन काल से नारी का स्थान सम्माननीय रहा है और कहा गया है...

कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता

कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिताकभी धरती तो कभी आसमान है पिताजन्म दिया है अगर माँ ने जानेगा जिससे जग...
Click to Hide Advanced Floating Content

COVID-19 INDIA Confirmed:174,496 Death: 4,983 More_Data

COVID-19

Live Data