देश में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम को लेकर लागू लॉकडाउन (बंद) के बीच गरीबों को राहत देने की योजना के तहत अब तक 30 करोड़ से अधिक लोगों को 28,256 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद दी गयी है। वित्त मंत्रालय ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। वित्त मंत्रालय ने ट्विटर पर बताया, ‘‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई) के तहत प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के जरिये 30 करोड़ से अधिक गरीब लोगों को 28,256 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद दी गयी है।’’वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले महीने इस योजना की घोषणा की थी। यह सरकार द्वारा घोषित 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का हिस्सा है। मंत्रालय ने कहा कि इसके तहत पीएम-किसान की पहली किस्त के तौर पर 13,855 करोड़ रुपये दिये गये हैं। इस योजना के तहत आठ करोड़ लाभार्थियों में से करीब 6.93 करोड़ लोगों को खाते में दो-दो हजार रुपये मिले हैं। इनके अलावा 19.86 करोड़ महिला जन-धन खाताधारकों को 500-500 रुपये मिले हैं। इन्हें कुल 9,930 करोड़ रुपये दिये गये हैं। राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के तहत करीब 1,400 करोड़ रुपये दिये गये हैं। यह लाभ करीब 2.82 करोड़ वृद्धों, विधवाओं व दिव्यांगों को मिला है। इन्हें एक-एक हजार रुपये की सहायता मिली है। निर्माण कार्यों में लगे 2.16 करोड़ मजदूरों को भी कुल 3,066 करोड़ रुपये की मदद दी गयी है। मंत्रालय ने एक अन्य ट्वीट में बताया कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ लोगों को प्रति माह प्रति व्यक्त पांच किलो अनाज निरूशुल्क दिया जा रहा है। दो करोड़ लोगों को यह लाभ पहले ही मिल चुका है।