प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 1380 हो गई है। इंदौर में एक थाना प्रभारी की मौत के साथ प्रदेश में कुल मौतों का आंकड़ा 70 को छू गया। वही ग्वालियर-चंबल संभाग से कोरोना संक्रमण को लेकर एक बार फिर राहत की खबर मिली है। यहां कोई नया कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है

भोपाल। मध्यप्रदेश में रविवार 19 अप्रैल 2020 को 39 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले है। इन्हें मिलाकर प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 1380 हो गई है। इंदौर में एक थाना प्रभारी की मौत के साथ प्रदेश में कुल मौतों का आंकड़ा 70 को छू गया। वही ग्वालियर-चंबल संभाग से कोरोना संक्रमण को लेकर एक बार फिर राहत की खबर मिली है। यहां कोई नया कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है बल्कि और चार लोग स्वस्थ हो गए है। इसके साथ ही मुरैना में 14 कोरोना पॉजिटिव में से 11 लोग स्वस्थ हो चुके है। इस दौरान इंदौर से भागे दो पॉजिटिव व दो संदिग्‍ध की भी रिपोर्ट निगेटिव आई है। इन चारों जमातियों में से दो की इंदौर में आई रिपोर्ट पॉजिटिव बताई गई थी। इलाज शुरू होने से पहले ही ये केले के ट्रक में बैठक भाग गए थे और मुरैना में पकड़े गए थे।

जबकि राजधानी भोपाल 219 कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान अब तक हो चुकी है। भोपाल में रविवार को कोरोना के 27 नए मरीज मिले हैं। इसमें बरखेड़ी क्षेत्र की नौ दिन की नवजात बच्ची भी शामिल है। यह प्रदेश में कोरोना की सबसे कम उम्र की मरीज है। हालांकि, उसके माता-पिता संक्रमित नहीं है। इस नवजात का 07 अप्रैल, 2020 को भोपाल कॉ सुल्तानिया अस्पताल में ऑपरेशन से जन्म हुआ था। पिता रूपेश साहू को 10 अप्रैल को पता चला कि सुल्तानिया अस्पताल की एक जूनियर डॉक्टर कोरोना से संक्रमित पाई गई है। उसकी ओटी में ड्यूटी रहती थी। लिहाजा, 16 अप्रैल को बरखेड़ी में शिविर लगा तो उन्होंने इस बच्ची के साथ उसकी मां की, अपनी समेत पांच लोगों की जांच कराई। इनमें बच्ची की छोड़ कर बाकी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। ऐसे में उन्हें आशंका है कि सुल्तानिया अस्पताल में जन्म के समय बच्ची किसी डॉक्टर या नर्स से संक्रमित हो गई होगी।

भोपाल में अब तक छह मरीजों की मौत हो चुकी है। रविवार को हमीदिया अस्पताल में दो संदिग्‍ध की मौत का मामला सामने आया है। इनमें एक रायसेन व दूसरा विदिशा का रहने वाला था। दोनों का भदभदा विश्राम घाट में अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इनकी कोरोना रिपोर्ट अभी आना बाकी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस दौरान घोषणा की है कि मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमित के मरीजों की सेवा करते हुए असमय मृत्यु का शिकार होने वाले स्वास्थ्यकर्मियों एवं अन्य कर्मचारियों के परिवारों को 50 लाख रुपए देने का निर्णय किया है। यह राशि “मुख्यमंत्री  कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना” के अन्तर्गत दी जायेगी।