लंदन : पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुके कोरोना के कारण क्रिकेट समेत खेल जगत की सभी टूर्नामेंट्स टाले या रद्द कर दिए गए हैं। विश्व की एक तिहाई आबादी लॉकडाउन के कारण घरों में कैद है। ऐसे समय में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने सभी क्रिकेटर्स को मैच फिक्सरों और भ्रष्टाचारियों से सावधान रहने के लिए कहा है। आईसीसी के एंटी-करप्शन यूनिट (एसीयू) के चीफ एलेक्स मार्शल ने शनिवार को यह बात कही। आईसीसी की चेतावनी पर बीसीसीआई ने कहा कि भारत में सबकुछ कंट्रोल में है। एलेक्स ने कहा, ‘‘कोविड-19 के कारण दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय, घरेलू क्रिकेट समेत सभी खेल टूर्नामेंट अस्थायी तौर पर रोक दिए गए हैं, लेकिन भ्रष्टाचारी अभी भी सक्रिय हैं। नतीजतन हमारा काम अब सभी सदस्यों, खिलाड़ियों, एसोसिएशन और एजेंट्स को आगाह करना है। हम इन सभी के साथ बात कर संपर्क साधे हुए हैं।’’ बीसीसीआई की एसीयू के चीफ अजीत सिंह ने कहा, हमें इसकी बिल्कुल भी टेंशन नहीं है। भारतीय खिलाड़ी भ्रष्टाचारी और मैच फिक्सरों के काम करने के तरीके को अच्छे से जानते हैं। यदि उन्हें कोई भी संदिग्ध दिखेगा, तो वे जरूर रिपोर्ट करेंगे। मैच फिक्सर किस तरह से खिलाड़ियों के सामने पेशकश रखते हैं और सोशल मीडिया पर किस तरह काम करते हैं, यह सब हमने अपने खिलाड़ियों को बेहतर तरीके से समझा रखा है। हमने प्लेयर्स को बताया है कि सट्टेबाज फैन बनने का नाटक करेंगे और फिर किसी पहचान वाले के जरिए मिलने की कोशिश करेंगे। ऐसा कुछ होता है, तो भारतीय खिलाड़ी हमें रिपोर्ट करते हैं।’’ आईपीएस अधिकारी रह चुके अजीत सिंह ने कहा, ‘‘हम सभी खिलाड़ियों की चैटिंग पर नजर रखते हैं। कुछ संदिग्ध लगेगा तो लॉकडाउन के बाद उस पर जांच करेंगे।’’ लॉकडाउन के कारण ज्यादातर खिलाड़ी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं। ऐसे समय में कई भ्रष्टाचारी उनसे संपर्क साध कर रिश्ते बनाने की कोशिश कर रहे हैं। ताकी खेल शुरू होने के बाद वे अपना भ्रष्टाचार का खेल शुरू कर सकें। हम इन सभी पर नजर बनाए हैं। साथ ही इन सभी संगठनों को उजागर करने के लिए संबंधित संस्थाओं, एसोसिएशन और खिलाड़ियों से संपर्क में हैं। साथ ही उन्हें आगाह भी किया है।’’ इस साल ऑस्ट्रेलिया में टी-20 वर्ल्ड कप और यूएई में होने वाले एशिया कप पर भी सस्पेंस बरकरार है।