नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते इन दिनों सारी दुनिया ठप्प पड़ गई है वहीं खेल जगत के टूर्नामेंट पर भी काफी बुरा असर पड़ा है। इसके चलते दुनियाभर के खेल टूर्नामेंट को या तो रद्द कर दिया गया या फिर अनुकूल समय तक के लिये टाल दिया गया है। इस महामारी के चलते आईसीसी की क्रिकेट सीरीज समेत कई द्विपक्षीय सीरीज को रद्द किया जा चुका है। इस बीच अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के आयोजन को लेकर लगातार अटकलें लगाई जा रहीं है। वहीं कई सारे देशों के बीच होने वाली टेस्ट सीरीज के टल जाने के चलते अगले साल होने वाले विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप पर भी असर पड़ा है जिसको देखते हुए इस टूर्नामेंट की तारीख को आगे बढ़ाये जाने की बात कही जा रही थी।

इन सब मुद्दों पर फैसला लेने के लिये आईसीसी ने 23 अप्रैल को मीटिंग बुलाई है जिसमें कोरोना वायरस महामारी के बीच टी20 विश्व कप 2020 कराने और विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप को आगे बढ़ाने को लेकर चर्चा की जायेगी।

इस मुद्दे पर बात करते हुए आईसीसी के एक अधिकारी ने कहा,’विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप लगभग आधी हो चुकी है और सुपर लीग अभी शुरू होनी है इसलिए हम अपने सदस्यों के साथ कई विकल्पों पर विचार करेंगे, लेकिन कोई भी निर्णय करने में अभी समय लगेगा।’

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप पर बात करते हुए आईसीसी के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अगर आगे 2 और टेस्ट सीरीज रद्द हो जाती है तो इससे कैलेंडर पर बुरा असर पड़ेगा।उन्होंने कहा, ‘हमें मार्च 2021 तक लीग चरण समाप्त करना है, क्योंकि फाइनल जून 2021 में लार्ड्स में खेला जाना है। भारत की स्थिति सबसे अच्छी है क्योंकि अभी तक उसकी कोई श्रृंखला रद्द नहीं हुई है। उसे अगली टेस्ट सीरीज ऑस्ट्रेलिया में नवंबर के आखिर में खेलनी है, लेकिन इंग्लैंड की पहले ही श्रीलंका के खिलाफ एक श्रृंखला रद्द हो चुकी है। इसके अलावा यह भी स्पष्ट नहीं है कि वेस्टइंडीज और पाकिस्तान इन गर्मियों में इंग्लैंड का दौरा कर पाएंगे या नहीं।’

गौरतलब है कि बैठक को लेकर ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के कैलेंडर को आगे खिसकाया जा सकता है ताकि द्विपक्षीय श्रृंखलाएं पूरी हो सकें।इसके अलावा वनडे लीग के लिये 13 टीमों के बीच प्वाइंटस सिस्टम लागू करने पर भी बात होगी। इसमें प्रत्येक टीम को 50 ओवरों की आठ द्विपक्षीय श्रृंखलाएं (कम से कम तीन मैचों की) खेलनी होगी। वनडे लीग मार्च 2022 तक जारी रहेगी।