नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की ओर से दुनिया भर में कोहराम मचा रही महामारी कोरोना वायरस को देखते हुए अनिश्चितकाल के लिये इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को टालने का फैसला किया है, जिसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम के क्रिकेट कैलेंडर पर असर पड़ना लाजमी है। इस महामारी की वजह से भले ही भारतीय टीम के लिये इस अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कम दिखाई दे और साल के बाकी महीनों में उसे कम ही खेलने को मिले लेकिन मौजूदा समय में एफटीपी के प्रोग्रम पर नजर डाली जाये तो भारतीय टीम के लिये साल 2021 काफी ज्यादा व्यस्त होने वाला है। कैलेंडर के तहत पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों पर नजर डालें तो विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम को इस साल लगभग 15 टेस्ट मैच खेलने पड़ सकते हैं।

साल 2020 में पहले भी भारतीय टीम टेस्ट प्रारूप में खासा व्यस्त नहीं थी, इसे इस साल सिर्फ 5 टेस्ट मैच खेलने थे जिसमें से दो टेस्ट (न्यूजीलैंड के खिलाफ) वह पहले ही खेल चुका है। अब भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नवंबर-दिसंबर के बीच 4 में से 3 टेस्ट मैच खेलने हैं जिसका आखिरी टेस्ट अगले साल जनवरी के पहले सप्ताह में खेला जाना है।

भारत को इस साल अधिकतर सीमित ओवरों के मैच ही खेलने हैं। उसने अभी तक इस वर्ष जो 16 मैच खेले हैं उनमें छह वनडे और आठ टी20 अंतरराष्ट्रीय शामिल हैं। भारत को ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर – नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप से पहले भी सीमित ओवरों के ही मैच खेलने हैं।

ऑस्ट्रेलिया में ही नया साल मनायेगी भारतीय टीम

फ्यूचर टूर प्रोग्राम (एफटीपी) के तहत आईसीसी ने इस साल भारतीय टीम को सीमित ओवर्स प्रारूप में ज्यादा व्यस्त रखा है, इसमें भारत का तीन वनडे और 3 टी20 मैच श्रीलंका का जुलाई दौरा भी शामिल है, जिसके बाद भारत को जिम्बाब्वे के खिलाफ उसी की सरजमीं पर 3 वनडे मैच खेलने के लिये जाना है।

भारतीय टीम को सितंबर में आयोजित होने वाले एशिया कप में भी भाग लेना है जो कि टी20 प्रारूप में खेला जायेगा। एशिया कप के तुरंत बाद भारत को इंग्लैंड के खिलाफ 3 वनडे और 3 टी20 मैचों की मेजबानी करनी है, जिसके बाद टीम एक लंबे दौरे के लिये ऑस्ट्रेलिया रवाना हो जायेगी।

यहां पर भारतीय टीम को टी20 विश्व कप से पहले मेजबान ऑस्ट्रेलिया से तीन टी20 मैच खेलना है जिसके बाद वह विश्व कप अभियान में हिस्सा लेना है। टी20 विश्व कप के बाद भारतीय टीम को 4 टेस्ट और 3 वनडे मैच के लिये ऑस्ट्रेलिया में ही रुकना है।

टेस्ट चैम्पियनशिप से पहले इंग्लैंड के साथ होगा करीबी मुकाबला

ऑस्ट्रेलिया दौरे का समापन जनवरी 2021 में होगा इसलिये वह अपना नया साल यहीं पर मनाने वाली है। ऑस्ट्रेलिया दौरे से लौटते ही भारत को इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की मेजबानी करना है। विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के तहत होने वाली यह सीरीज जनवरी से मार्च तक चलेगी जिसके बाद भारत को अफगानिस्तान के साथ 3 मैचों की वनडे सीरीज भी खेलनी है। आईपीएल से पहले भारत की यह आखिरी अंतर्राष्ट्रीय सीरीज होगी जिसमें उसके सभी खिलाड़ी डेढ़ महीने तक बिजी रहने वाले हैंं।

टेस्ट चैम्पियनशिप से लेकर टी20 विश्व कप तक, ऐसा रहेगा शेड्यूल


आईपीएल के बाद इंग्लैंड में विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेला जाना है, जिसकी अंकतालिका को देखते हुए भारत का इसमें शामिल होना लगभग तय माना जा सकता है, वह अभी भी टॉप पर काबिज है। लॉर्डस में होने वाले इस ऐतिहासिक फाइनल के साथ ही भारत का विदेशी दौरा भी शुरू हो जाएगा जिसमें उसे श्रीलंका में तीन टी20 मैच खेलने हैं और फिर अगस्त से सितंबर तक इंग्लैंड दौरे पर जाना है जहां पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला होनी है।

विराट कोहली की टीम अक्टूबर में तीन वनडे और तीन टी20 के लिये दक्षिण अफ्रीका की मेजबानी करेगी। इसके बाद भारतीय सरजमीं पर ही टी20 विश्व कप खेला जाना है। भारत को नवंबर – दिसंबर में दो टेस्ट और तीन टी20 के लिये न्यूजीलैंड की मेजबानी करने के बाद तीन टेस्ट और इतने ही टी20 खेलने के लिये दिसंबर में दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर जाना है।