शेख परवेज आलम
बेहट/सहारनपुर। बेटियों को बहला फुसला कर ले जाने वाले पर पुलिस द्वारा संतोषजनक कार्यवाही न किए जाने और आरोपियों द्वारा दी जा रही धमकी से खफा होकर एक गरीब परिवार गांव से पलायन करने को मजबूर है। हालांकि पुलिस मामले को लेकर नियमानुसार कार्यवाही की बात कह रही है।

दरअसल, पूरा मामला कोतवाली बेहट इलाके के गांव पिठौरी का है। गांव के ही एक व्यक्ति की दो बेटियों को दूसरे सम्प्रदाय का व्यक्ति बहला-फुसला कर ले गया था। पीड़ित ने पुलिस को शिकायत की तो पुलिस ने मामले को लेकर मुकदमा दर्ज करते हुए दोनों लड़कियां बरामद कर ली। अब पीड़ित लड़कियों और परिजनों का कहना है कि आरोपी पक्ष कार्यवाही करने की दशा में जान से मारने की धमकियां दी रहा है। पीड़ित लड़कियों का आरोप है कि पुलिस ने बरामदगी के बाद उनका मेडिकल भी नहीं कराया और आरोपियों से साठगांठ कर ली और उन्हें जेल नही भेजा। पीड़ितों का कहना है कि पुलिस उन्हें टरका रही है और लॉक डाउन के बाद कार्यवाही करने की बात कह रही है जबकि आरोपी उन्हें खुलेआम जान से मारने की धमकियां दे रहे है। जिससे डरकर वे गांव छोड़कर जा रहे है।

वहीं पीड़ित परिवार के गांव छोड़कर जाने की खबर पर ग्राम प्रधान शाहजमाँ व कुछ जिम्मेदार लोग पीड़ित के घर पहुंचे और उन्हें मनाने का प्रयास किया। ग्राम प्रधान ने भी पुलिस से पीड़ित पक्ष को न्याय दिलवाने की मांग की है। उधर, पलायन के मामले को लेकर पुलिस के आला अफसर भी कुछ बोलने को तैयार नही है। हालांकि एसपी देहात विद्या सागर मिश्र ने बताया कि इस मामले में मुकदमा दर्ज है और न्यायालय खुलते ही लड़कियों के बयान कराएं जाएंगे और पुलिस द्वारा सम्पूर्ण कार्यवाही की गई है।