32-33 साल पहले जब यह रामायण धारावाहिक रिलीज हुआ था तब कई लोगों के पास टेलीविजन नहीं था लेकिन वर्तमान स्थिति भिन्न है क्योंकि कम से कम 18 करोड़ परिवारों के पास टेलीविजन हैं।

समस्त भारत में लाॅक डाउन चल रहा है, ऐसे में भारतीयों की भारी मांग पर रामायण का पुनः प्रसारण किया गया था, जिसकी समाप्ती आज होने जा रही है, कल से दूरदर्शन पर नया कार्यक्रम श्री कृष्णा का प्रसारण होगा ऐसे में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने रामायण सीरियल के पुनः प्रसारण में सहयोग के लिए इसके निर्माता रामानंद सागर को शनिवार को धन्यवाद दिया और कहा कि इसने नयी पीढ़ी को इसका अनुभव करने का मौका प्रदान किया। रामानंद सागर के पुत्र प्रेमसागर को लिखे पत्र में जावडेकर ने कहा कि ‘लॉकडाउन के दौरान रामायण का पुनः प्रसारण करने की हमारी इच्छा थी।’ उन्होंने कहा, ‘‘ इस इच्छा को पूरा करने में हमारी मदद करने के लिए आपके परिवार के प्रति मैं बड़ा आभारी हूं।’’

मंत्री ने कहा कि 32-33 साल पहले जब यह रामायण धारावाहिक रिलीज हुआ था तब कई लोगों के पास टेलीविजन नहीं था लेकिन वर्तमान स्थिति भिन्न है क्योंकि कम से कम 18 करोड़ परिवारों के पास टेलीविजन हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान पीढ़ी ने पहले ‘रामायण’ का वैभव नहीं देखा है लेकिन इस सीरियल के पुनः प्रसारण ने नयी पीढ़ी के लिए उसे देख पाना संभव बना दिया। उन्होंने कहा कि ‘रामायण’ को सात करोड़ सत्तर लाख से अधिक लोगों द्वारा देखे जाने के साथ ही 16 अप्रैल को यह सबसे अधिक देखा जाने वाला शो बन गया। जावडेकर ने कहा, ‘‘मैं दूरदर्शन की ओर से रामायण सीरियल की पूरी टीम को धन्यवाद देता हूं, सभी को बधाई।