गुजरात के सूरत से उत्तर प्रदेश जा रही प्रवासी मजदूरों की बसों को प्रशासनिक कारणों से शनिवार को गुजरात सीमा पर आगे जाने से रोक दिया गया जिससे भड़के प्रवासी मजदूरों ने गुजरात पुलिस पर पथराव किया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने कहा कि बसों को वड़ोदरा में वाघोडिया के पास हलोल चेक पोस्ट पर रोका गया क्योंकि उनके पास आगे जाने की अनुमति नहीं थी।

इससे उत्तेजित मजदूर पुलिस से भिड़ गए और पथराव करने लगे। वाघोडिया पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कहा, “उत्तर प्रदेश जाने के लिए वैध पास ना होने के कारण बसों को रोक दिया गया था। कुछ मजदूरों ने इसका विरोध करते हुए पत्थर फेंके और हमें स्थिति को नियंत्रित करने के लिए हल्की लाठी चार्ज का सहारा लेना पड़ा।”

उन्होंने कहा कि भादसं की धाराओं और आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों के तहत अज्ञात व्यक्तियों पर दंगा, गैरकानूनी जमावड़ा और हमला करने के आरोप लगाए गए हैं लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। अधिकारियों ने कहा कि सूरत से उत्तर प्रदेश के रास्ते में आने वाले कई प्रवासी मजदूरों को गुजरात और मध्य प्रदेश में रास्ते में ही रोक दिया गया है क्योंकि अभी तक उन्हें उनके राज्य में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है।