चीन क्या समझ रहा कि चुप रहेगा हिन्दुस्तान
अपने वीर सपूतों के शहादत को यू सहेगा हिन्दुस्तान
खड़े चारों दिशाओं में सब सेनाओं को
दे रहे है सम्मान
देखो गा रहे है सब कैसे
देश का गुण- गान है
चारों दिशओं में प्रतिशोध की लहर है
अब तुम्हारे विश्वासघाती सेना का नामोंनिशान मिटाना है
चीन क्या समझ रहा है कि चुप रहेगा हिन्दुस्तान
अपने वीर सपूतों के शहादत को यू सहेगा हिन्दुस्तान
जब बंधन सैनिकों के खुलेंगे तब होगा इन पर प्रहार
दहाड़ गे जब शेर यहां के तब होगा इन पर ब्रजपात ।।

राज कुमार साव, पश्चिम बंगाल