राम – राम !! जय श्री राम!! जय सिया राम !!

हर सभी भारतीयों  के लिए और हर हिन्दू के लिए यह बड़े गर्व और हर्ष की बात है की वर्षाे बाद इसी जीवनकाल में  श्री राम जी का भव्य मंदिर बनने जा रहा है और राम-मंदिर के भूमि-पूजन की तारीख भी रख ली गई है. आजतक राम-मंदिर सिर्फ राजनितिक मुद्दा था लेकिन अब ये सपना पूरा होगा. इस अवसर के लिए पूरी  अयोध्या नगरी  को पीले रंग से रंगा गया है और ऐसा प्रतीत होता है की अयोध्या दुल्हन की तरह सज गई  हो. पूरा दृश्य त्रेतायुग की याद  दिला रहा है. वैसे भी पीले रंग का हिन्दू-सनातन सभ्यता और संस्कृती  से बहुत सम्बन्ध रहा है. 

Image Source: Google

05 अगस्त 2020, बुधवार के दिन हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी स्वयं इस ऐतिहासिक मौके पर मौजूद होंगे और 12 बजकर 15 मिनट पर भूमि पूजन करेंगे . इस पावन अवसर का लाइव प्रसारण टेलीविज़न के विभिन्न चैनलों पर  किया जाएगा  और इस अविस्मरणीय कार्यक्रम के लाखों लोग टेलीविज़न के जरिये  साक्षी बनेंगे. श्री लाल कृष्ण अडवाणी जी और मुरली मनोहर जोशी जी वीडियो कॉनफेरेन्स के माध्यम से जुड़ेंगे. मुख्य मंच पर प्रधानमंत्री जी के साथ सिर्फ पाँच लोग उपस्थित होंगे.

Image Source: Google

तैयारियों की बात की जाए तो बड़े ही जोर-शौर से चल रही है.मेन  रोड़ के दोनों तरफ पीले रंग की पुताई की जा रही है.आश्रम में लड्डुओं का प्रसाद दिन-रात बनाया जा रहा है.लड्डुओं को महाप्रसाद का नाम दिया गया है. इसके लिए खास श्री राम की फोटो वाले तीन तरह के  डब्बे तैयार किए गए हैं जिनमे 5 लड्डू, 11 लड्डू और 21 लड्डू डाले जाएँगे.करीब 8000 लड्डू के डिब्बे प्रसाद के रूप में भक्तों को देने के लिए तैयार किए गए हैं.  भूमि-पूजन के बाद एक लड्डू का डिब्बा, भगवान राम से जुडी एक किताब  और एक अंग-वस्त्र हर रामभक्त को दिया जाएगा. फूलों से पूरे शहर को सजाया जाएगा. 170 की संख्या में मेहमान वहाँ आएँगे जिन्हें खासतौर पर बुलाया गया है. सोशल डिस्टन्सिंग और कोरोना के मद्देनज़र यह फ़ैसला लिया गया है. रामलला की वेशभूषा शंकरलाल जी का परिवार तैयार कर रहा है. परंपरागत उनका ही परिवार ऐसा करते आ रहे हैं.श्री राम अयोध्या के कण-कण में बसे हैं. यहाँ श्री राम के बाल-रूप की पूजा होती है. हर हिन्दू के मन में बसे हैं राम. कहा जा रहा है की पूरी दुनियां में यह राम-मंदिर अपने आप में सबसे अनोखा बनने जा रहा है. पूजन के समय मुस्लिम समाज से भी लोग बुलाये जाएँगे क्योंकि राम किसी जाति, समुदाय या धर्म से ऊपर हैं. वो तो मर्यादा पुरुषोत्तम राम है जिन्होंने सभी धर्मों को समान रूप से सम्मान दिया है. हम उम्मीद करते हैं की राम मंदिर ना केवल अयोध्या वासियों को बल्कि पूरे भारत और विश्व को भी एक सूत्र में पिरोने में कामयाब होगा. 

Image Source: Google

!! जय श्री राम !!

द्वारा – सुरेंद्र सैनी बवानीवाल “उड़ता” झज्जर – 124103 (हरियाणा )