BY: Surender Saini (UDTA)

आज हम आपकी मुलाक़ात एक ऐसी शख्सियत से करवाने जा रहे हैं जो पूर्ण भारतीय सोच रखते हैं और हमेशा अपने देश भारत और हिंदुत्व सनातन धर्म की बात करते हैं और पिछले दस वर्षों से इसी क्रम में कार्य करते आ रहे हैं. इस महान व्यक्तित्व का नाम है श्री दीपक सिंह जी.ये श्री राम जी के भक्त हैं और ये अलीगढ (उत्तरप्रदेश )से सम्बन्ध रखते हैं. हमारे साथी श्री सुरेंद्र सैनी बवानीवाल जी ने इनसे जीवन के विभिन्न पहलुओं पर बातचीत की और इनके व्यक्तित्व को जाना. तो पेश है इनसे हुई वार्ता के कुछ अंश-

दीपक सिंह जी का जन्म 17 मार्च 1983 को अलीगढ में हुआ. खेलों में और सामाजिक गतिविधियों की तरफ इनका रुझान बचपन से ही था. ये पिछले दस वर्षों से सामाजिक कार्यों से जुड़े हुए हैं और  HSS – हिन्दू संरक्षण संघ, अलीगढ (भारत ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं  .इन्होंने MA(सोशियोलॉजी ) तक शिक्षा प्राप्त की है.इनके परिवार सदस्यों में इनके पिता श्री उम्मेद सिंह जी, माता श्रीमती ओमवती जी (गृहिणी),  पत्नी श्रीमती प्रीति सिंह (गृहिणी ) व दो बेटे – कुंवर अर्नब प्रताप सिंह और कुंवर प्रणब प्रताप सिंह है.

ग्रेजुएशन करने के बाद दीपक जी ने जॉब करना शुरू कर दिया था. इनकी जॉब बड़ी और अच्छी MNC कंपनी में होती थी और जॉब के सिलसिले में उनको घर से दूर (नागपुर) महाराष्ट्र, कर्नाटक, बैंगलोर, तमिलनाडु, गोआ  जैसी जगहों पर रहना पड़ रहा था लेकिन उन्होंने कभी इसके लिए कोई शिकायत या परेशानी नहीं समझी थी लेकिन अचानक सन 2010 में दीपक जी के बड़े भाई एक  एक्सीडेंट में भगवान को प्यारे हो गए और इस हादसे से दीपक जी के जीवन की  दिशा  ही बदल गयी.उन्होंने सोचा की माँ-बाप के पास भी एक बेटा होना चाहिए कुछ फिर घर के हालात देखते हुए  दीपक जी को नौकरी छोड़नी पड़ी और वापिस अलिगढ़ आना पड़ा.जबतक घर के हालात सामान्य हुए तो फिर वापिस जाने का उनका मन नहीं हुआ. और तब तक दीपक सिंह जी सामाजिक कार्यों से जुड़े हुए थे लेकिन ज़्यादा समय नहीं दे पाते थे लेकिन अब उन्हें समय मिलने लगा था और वहीं से उनको एक बड़ी पहचान मिलनी शुरू हुई. 

अपने विवाह के बारे में दीपक जी ने बताया की उनकी शादी 12 फरवरी,2005 में हुई थी. उनकी पत्नी श्रीमती प्रीति सिंह ने भी MA तक की शिक्षा प्राप्त की हुई है.घर में अपने बच्चों को वो खुद ही पढ़ातीं हैं.और बाकी सभी परिवार के सदस्यों का ख्याल बहुत अच्छे से रखती हैं. दीपक जी संघ के कार्य से अकसर घर से बाहर रहते हैं लेकिन प्रीति सिंह जी ने इस बात के लिए कभी ऑब्जेक्शन नहीं किया और हमेशा दीपक जी का सहयोग किया. 

हिन्दू संरक्षण संघ के बारे में दीपक जी ने बताया की HSS का रजिस्ट्रेशन दिसंबर 2018 में करवाया गया था. इससे पहले दीपक जी कुछ और संस्थाओं से जुड़े हुए थे लेकिन वो सभी जमीनी स्तर पर कुछ खास काम नही कर रहे थे और सिर्फ फेसबुक और व्हाट्सप्प तक सीमित थे.दीपक जी जमीनी स्तर पर हर कार्य करना चाहते थे इसलिए  इन्हीं कुछ कारणों से दीपक जी के मस्तिष्क में HSS की रुपरेखा जन्म ले चुकी थी. हिन्दू संरक्षण संघ 12 राज्यों में कार्य कर रहा है. धारा 370 के कारण जम्मू -कश्मीर में कार्य शुरू नहीं किया जा सका था. लेकिन 370 हटने के बाद जम्मू और कश्मीर में भी कार्य शुरू करने के लिए रजिस्ट्रेशन की दरखास्त डाल दी गयी है. HSS के 15 मुख्य राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य और  करीब 1500 पदाधिकारी नियुक्त हैं. वैसे थिंकटैंक के रूप में 7 सदस्यों के नाम दर्ज़ है. छोटी छोटी इकाइयों जैसे महिला मोर्चा, युवा मोर्चा , युथ ब्रिगेड, वरिष्ठ नागरिक कल्याण समिति, विधार्थी परिषद, संत समाज आदि  के अध्यक्ष भी कार्यकारिणी में सदस्य गण हैं. संघ के 50% से 60% सदस्य  प्राइवेट या सरकारी कर्मचारी हैं. हमारे सभी इकाइयों के  अध्यक्ष जरूरत पड़ने पर फैसला ले सकते हैं. अच्छे कार्य के लिए किसी को भी कोई भी मनाही नहीं है. 

हिन्दू संरक्षण संघ के कार्यों में शामिल है 

-देश के निवासियों को एक करना 
-देश के हिन्दुओं को एकजुट करना 
-देश से जातिवाद हटवाना 
-देश के नागरिकों को जाति विशेष ना मानकर एक दर्जा दिलवाना 
-नयी पीढ़ी को भारत की सभ्यता और संस्कृति से जोड़ना 
-अनाथाश्रम में दान, चंदा व  सुविधाएं मुहैया करवाना 
-सभी भारतीयों को एकसाथ जोड़ना 
-गाँव गाँव जाकर युवाओं की रोज़गार हेतू कॉउंसलिंग करवाना 
-हिन्दू धर्म का प्रचार व प्रसार करना 
-लोगों की समस्याएं दूर करवाना 
-हेल्थ चेकअप कैंप, नेत्र जाँच कैंप आदि लगवाना 
-कोरोना में गरीबों की राशन-भोजन की व्यवस्था करवायी 
-गरीबों के लिए भंडारे व छबील का आयोजन करना 
-कोरोना में गरीबों को उनके घर भिजवाया 
-कोरोना में दवाइयाँ, मास्क और सेनीटाइज़र बंटवाये गए 
-कोरोना के दौरान गरीबों को  वस्त्र दान भी किए गए 
-पुलिसकर्मियों को भी पानी, नाश्ता दिया है 
-सामाजिक सरोकार जैसे रक्तदान,पौधरोपण आदि
– जरूरतमंद महिलाओं के लिए घर के पास शिक्षा व्यवस्था करवाना ,सिलाई, बुनाई, कढ़ाई, ब्यूटी कोर्स  की क्लास का आयोजन  करवाना 
– गरीबों को सरकारी मदद के लिए रास्ता बताना 
– कोरोना से ठीक हुए मरीज़ों का सम्मान किया गया. 

ऐसे बहुत से कार्य हैं जिनके बारे में बताने का मतलब है अपनी तारीफ खुद करना जो कि दीपक जी को बिल्कुल भी पसंद नहीं है.दीपक जी चाहते हैं की सही वक़्त आने पर ही मीडिया को हमारे आने वाले प्रोजेक्ट्स का पता चलना चाहिए. आगे दीपक जी कहते हैं की हर हिन्दोस्तानी को नाम के आगे हिन्दू लगाना चाहिए जैसे मुस्लिम लोग कोई जाति ना लिखकर सिर्फ अपना धर्म लिखते हैं.दीपक जी सच्चे मन से लोगों की सहायता करते हैं. उनके पास किसी अंजान व्यक्ति का भी फ़ोन आ जाता है तो वो बिना कोई सवाल लिए याचक की मदद कर देते हैं और मदद सिर्फ पैसे से ही नहीं होती है. कई बार तो उनका किया एक फ़ोन भी किसी के लिए मददगार सिद्ध होता है.परिवार को समय देने की बात पर उन्होंने बताया की कभी पंद्रह दिन तो कभी एक महीना भी हो जाता है परिवार से मिले हुए.कहीं आने-जाने के लिए या किसी कार्यक्रम के लिए  सरकार से किसी प्रकार की कोई सहायता नहीं मिलती.संगठन को चलाने के लिए भी कोई सरकारी अनुदान नहीं मिलता. हिन्दू संरक्षण संघ सदस्यता शुल्क से ही चल जाता है जो कि हर स्तर पर अलग है. कार्यकर्त्ता के लिए सदस्यता शुल्क अनिवार्य नहीं है.उन्होंने बताया की एक बार लोकसभा चुनाव के दौरान एक पार्टी विशेष के लोगों का फोन आया कि हम और हमारा पूरा दल उनको वोट दिलवाने के लिए जनता से अपील करे लेकिन हमने साफ मना कर दिया क्योंकि हम राजनीती के अंदर नहीं घुसना चाहते,  हमारा अपना एक अलग वज़ूद है हम किसी जाति या पार्टी विशेष के लिए कार्य नहीं करके पूरे राष्ट्र के लिए कार्य कर रहे हैं. हमारे संघ का नाम सुनकर ज्यादातर पार्टी हमसे दूर ही रहती है क्योंकि उनको लगता है कि हम RSS की ही एक शाखा हैं लेकिन ऐसा कुछ नहीं हैं. वो इंटरनेशनल लेवल पर काम कर रहे हैं और हम ग्राउंड लेवल पर. जैसे मुकेश अम्बानी जी विश्व के चौथे सबसे अमीर आदमी बन गए हैं और अनिल अम्बानी जी अभी अपने  देश के भी  सबसे बड़े आदमी नहीं बन पाए हैं. RSS वाले  बड़े भाई जैसा कार्य करते हैं हम उनके छोटे भाई जैसा कार्य कर रहे हैं लेकिन हमारा अपना अस्तित्व भी उभरता हुआ बहुत बढ़ रहा है . जहाँ पर RSS नहीं पहुँच पा रही है वहाँ पर हमारा हिन्दू संरक्षण संघ काम कर रहा है. हमारे संघ की विचारधारा सिर्फ हिन्दुओं को लेकर है चाहे वो भारत में  कहीं के भी हों.हम लोगों की मदद करने के लिए जान लड़ा देते हैं और हर संभव प्रयास  करते हैं. हम ऐसा कोई भी काम नहीं करते जिससे किसी भारतीय को तकलीफ हो जैसे बेमतलब का धरना, देश के खिलाफ नारेबाजी आदि.  हमने अपने संघ के सदस्यों पर कभी दबाव नहीं डालते की उन्हें वोट अमुक पार्टी को देनी है. ये फ़ैसला उनका अपना है.लेकिन जम्मू-कश्मीर से  धारा 370 हटना, मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन – तलाक समाप्त होना,चीन को जवाब देना, देश में  राफेल आना, राम-मंदिर बनना आदि इतने कामों को देखकर तो लोगों को भी समझ आ गया होगा कि किसे वोट देना चाहिए और कौन सी सरकार देश का हित चाहती है.हम भाग्यशाली हैं की हमने पिछले छह सालों में वो सबकुछ देख लिया जो कि हमारे पूर्वज भी नहीं देख पाए थे. बहुत से काम ऐसे हैं जो पिछले साठ सालों में अपने देश में नहीं हो पाए थे. 

सांस्कृतिक कार्यक्रम के सवाल पर दीपक जी ने बताया की उनके हिन्दू संरक्षण संघ ने होली पर  एक बहुत अच्छे कार्यक्रम का आयोजन किया था. 

लोगों के लिए मेसेज है की कभी गलत का साथ मत दो

देश के लिए एक हो जाओ एक जाति नहीं एक हिन्दोस्तानी बनो 

यदि आपको भी अपना साक्षात्कार व अन्य कोई भी जानकारी हमारे वेबपेज AAJKYA.COM पर देनी है तो आप 9058417006 पर सम्पर्क कर सकते हैं।