Bharti Bhardwaj

4 POSTS0 COMMENTS

कारज धीरे होते हैं काहे होत अधीर : एक विचार

कारज धीरे होत है, काहे होत अधीर । समय पाय तरुवर फरै, केतिक सींचौ नीर  कवि कहते हैं- "क्यों...

मानव जाति के लिए दुर्भाग्य-कोरोना

विपदा,संकट,महामारी या फिर खुद लॉकडाउन क्या हो सकता है मानव जाति का दुर्भाग्य?? आर्थिक गतिविधियों का ना होना, 16 लाख परिवारों के...

दोहरा व्यक्तित्व और बदलते पैमाने : एक विचार

दूसरों की बातों पर मजा लेने में बहुत दिलचस्पी है हमारी आजकल। पर ,जब दूसरों की जगह हम खुद को पाते हैं,...

अपरिभाषित जिंदगी ,जीवन को परिमाण और परिणाम देती हुई

अपरिभाषित जिंदगी जीवन को परिमाण और परिणाम देती हुई ।खुश रहना और दूसरों को खुश रखना क्या जीवन के यही मायने हो...

TOP AUTHORS

79 POSTS0 COMMENTS
293 POSTS2 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
4 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS

Most Read

क्या पेट सिर्फ गरीब मजदूरों के पास ही होता है?? क्या गरीब बेरोजगार छात्र बिना पेट के पैदा हुए है??

🤔🤔🤔🤔ऐसा लग रहा है कि देश में सिर्फ मजदूर ही रहते हैं….बाकी क्या काजू किसमिस बघार रहे हैं ?🙁

The BROTHER : A “GIFT” to the Heart & a “FRIEND” to the Spirit

“Brothers are like streetlights along the road, they don’t make distance any shorter but they light up the path and make...

प्रतापगढ़ में कृषक कुर्मी परिवार पर हुए बर्बरता पूर्ण कृत्य से भड़का कुर्मी समाज

26 मई 2020 को प्रातः 11:00 बजे सभी कुर्मी समाज जिलाधिकारी कार्यालय पर उपस्थित होकर महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश के नाम...

कविता: डग- मग -पग

दीप जला ले, थाल बजवा ले, पैदल भी अब चलवा ले।निकल पड़े हम, ले सर गठरी, ‘डग-मग-पग’ पर ले छाले।।
Click to Hide Advanced Floating Content

COVID-19 INDIA Confirmed:139,049 Death: 4,024 More_Data

COVID-19

Live Data