Admin

391 POSTS2 COMMENTS

बादल की गड़गड़ाहट

धूल भरी आंधी , गर्मी, ज्यादा ठंड ऐसे अनेक प्राकृतिक वातावरण हमें पर्यावरण में देखने को मिलते हैं लेकिन सावन ! एक...

अब पहले जैसा जहां नहीं मिलता

ढूंढने से अब पहले जैसा,, जहां नहीं मिलता,मिल जाए नजर पर अब,, दिल नहीं मिलता अपने घर...

सुख और आनंद कहां हैं!

पापा आप ऑफिस से आकर न तो कुछ खेल खेलते हो, न टी.वी देखते हो और न कई घूमने जाते हो कितनी...

विवेकहीन राजनीति

राजनीति की सीढ़ियां चढ़ तुम,परहित भूल ही गए तुम,मानस का विवेक गवांकर तुम,किस राह पर चल पड़े हो तुम।१।

गरीबों, किसानों, कमेरों, मजदूरों, शोषितों, वंचितों की आवाज थे यशकायी डॉ सोनेलाल पटेल जी – आशीष कु. उमराव पटेल

सहारनपुर | आज सहारनपुर में आजादी की दूसरी लड़ाई के प्रणेता, अपना दल के संस्थापक परम पूज्य यशःकायी डॉ सोनेलाल पटेल जी...

विकास और विश्वास (Suneet)

एक शौचालय के बाहर लिखा था 'देश का विकास शौचालय में, विश्वास' इसका मतलब किसी भी बात का विश्वास करने के...

शरारत (सुनीत)

एक जूते की दुकान के बाहर लिखा था' All Kinds of Ladies footwear available here, (यहाँ सभी प्रकार के लेडीज फुटवियर...

बहिष्कार: ऐप एक्शन झाकी है (साव)

ऐप एक्शन झाकी हैसारा बिजनेस अभी बाकी हैचीनी टिक-टाक ऐप हटाना हैभारतीय मैत्री ऐप लाना हैलोकल के लिए देश को वोकल...

मुक्तक: कहाँ गया बचपन

गंगा जी के पावन जल सा,कहाँ गया बचपन।ईश्वर की छवि जिसमें झलके,कहाँ गया दर्पन।अपने और पराये का था,जिसमें भेद नहीं-कोरे कागज...

बदलाव (छोटी कथा)

जिंदगी में बहुत सारे अवसर ऐसे आते जब हम बुरे हालात का सामना कर रहे है ओर सोचते है कि क्या किया...

दृष्टि बाधित दिव्यांग छात्रा माधुरी पटेल बनी हाईस्कूल परीक्षा में प्रेरणास्रोत

खुदी को कर बुलंद इतना खुदा खुद आकर पूछे बता तेरी रजा क्या है ? जी हां इस वाक्य को बखूबी...

भारत को ग़रीबी मुक्त करेंगे IAS अधिकारी!

IAS भारत की सर्वश्रेष्ठ सेवा मानी जाती है जो सबसे कठिन परीक्षा UPSC को उत्तीर्ण करके प्राप्त की जाती हैं। देश...

TOP AUTHORS

80 POSTS0 COMMENTS
391 POSTS2 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
4 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS

Most Read

बादल की गड़गड़ाहट

धूल भरी आंधी , गर्मी, ज्यादा ठंड ऐसे अनेक प्राकृतिक वातावरण हमें पर्यावरण में देखने को मिलते हैं लेकिन सावन ! एक...

अब पहले जैसा जहां नहीं मिलता

ढूंढने से अब पहले जैसा,, जहां नहीं मिलता,मिल जाए नजर पर अब,, दिल नहीं मिलता अपने घर...

सुख और आनंद कहां हैं!

पापा आप ऑफिस से आकर न तो कुछ खेल खेलते हो, न टी.वी देखते हो और न कई घूमने जाते हो कितनी...

विवेकहीन राजनीति

राजनीति की सीढ़ियां चढ़ तुम,परहित भूल ही गए तुम,मानस का विवेक गवांकर तुम,किस राह पर चल पड़े हो तुम।१।